दो शेर हिंदुस्तान और पाकिस्तान को नज़र


हदों को खींच कर , हदों मे रहना भी गंवारा नहीं,

बेहद  मोहब्बत , हदों की  कायल  नहीं होती |

अमर स्नेह

बिना  इजारबंद  के नेफे, कसूरवार हैं यहाँ,

असले  बर्बादी  के , इजारबंद  नहीं  होते |

अमर स्नेह

असले बर्बादी – अस्त्र (मिजाइल अदि)

इजारबंद – पजामे का नाड़ा

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s